अन्धविश्वास

विकिसूक्ति से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
  • अरिहरन कीं चोरी करै, करे सूई का दान ।
ऊँचा चढि कर देखता, केतिक दूर विमान ॥ -- कबीरदास
अर्थ है- मानव कुमार्ग पर चलकर कमाए गए धन का नगण्य भाग दान करके आकाश की ओर देखता है कि उसे स्वर्ग ले जाने वाला विमान अभी कितनी दूर है? अज्ञानी मानव द्वारा ऐसा किया जाना अन्धविश्वास को ही दर्शाता है।
  • पाहन पूजे हरि मिले तो मैं पुजूँ पहार ।
ताती यह चाकी भली पीस खाय संसार॥ -- कबीरदास
यदि पत्थर को पूजने से भगवान मिलें तो मं पहाड़ की पूजा करूँगा। इससे तो अच्छी चक्की (की पूजा करना) है जिससे पीसकर लोग खाते हैं।
  • जब अंधविश्वास आपकी शिक्षा पर हावी हो जाए तो समझ लीजिए कि आप मानसिक गुलाम बन चुके हैं। -- महात्मा बुद्ध
  • अज्ञानता से भय पैदा होता है, भय से अंधविश्वास पैदा होता है, अंधविश्वास से अंधभक्ति पैदा होती है, अंधभक्ति से आदमी का विवेक शून्य हो जाता है, और जिस आदमी का विवेक शून्य हो जाता है, फिर वह मानव नही, मानसिक गुलाम हो जाता है। इसलिए अज्ञानी नही, ज्ञानी बनो।
  • तर्क करने से अच्छे भविष्य का निर्माण होता है जबकि अन्धविश्वास से वर्तमान भी रोगग्रस्त हो जाता है। -- Iain Banks, Piece (1989)
  • अपराध करने वाले बड़े अन्धविश्वासी होते हैं। -- बैटमैन (१९३९)
  • सही रास्ते पर चलने की इच्छा रखने वाले को स्वयं सोचना पड़ेगा क्योंकि अन्धविश्वास संसार की सबसे बड़ी बुराइयों में से एक है। -- जिद्दू कृष्णमूर्ति, At the Feet of the Master (1911)
  • तीन चीजें सबसे अधिक हानि करतीं हैं- गल्प (गप्प), निर्दयता और अन्धविश्वास। -- -- जिद्दू कृष्णमूर्ति, At the Feet of the Master (1911)
  • डर, अन्धविश्वास का मुख्य स्रोत है और निर्दयता के प्रमुख स्रोतों में से एक है। -- बर्ट्रान्ड रसेल, An Outline of Intellectual Rubbish (1943), 23.

इन्हें भी देखें[सम्पादन]