दुर्जन

विकिसूक्ति से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

दुर्जन अर्थात दुष्ट व्यक्ति। शठ, खल, दुष्ट, असन्त आदि इसके पर्याय हैं।


  • सर्पदुर्जनरोर्मध्ये वरं सर्पो न दुर्जनः ।
सर्प दशति कालेन दुर्जनस्तु पदे पदे ॥
सर्प एवम् दुर्जन के मध्य तुलना करें तो दुर्जन से सर्प अच्छा है क्योंकि सर्प कभी-कभार समय आने पर काटता है परन्तु दुर्जन पद-पद पर समय काटता रहता है।
  • आरम्भगुर्वी क्षयिणी क्रमेण,
लघ्वी पुरा वृद्धिमती च पश्चात् ।
दिनस्य पूर्वार्द्धपरार्द्ध भिन्ना ,
छायेव मैत्री खलसज्जनानाम् ॥
दुष्टों और सज्जनों की मित्रता दिन की छाया की तरह होती है। जिस प्रकार मध्यान्ह से पूर्व की छाया आरम्भ में बड़ी होती दिखती है और बाद में क्रमशः छोटी होती हुई मध्यान्ह में समाप्त हो जाती है, उसी प्रकार दुष्टों की मित्रता आरम्भ में अत्यन्त प्रगाढ़ होती है जो धीरे-धीरे कम होकर समाप्त हो जाती है।
  • दुर्जनः परिहर्तव्यो विद्यालङ्कृतो सन।
मणिना भूषितो सर्पः किमसौ न भयङ्करः॥
दुष्ट लोग भले ही बुद्धिमान हों और विद्या प्राप्त कर लें, तो भी उनका परित्याग कर देना चाहिए। मणि युक्त सांप क्या बह्यानक नहीं होता?
  • दुर्जन दर्पण सम सदा, करि देखौ हिय गौर।
संमुख की गति और है, विमुख भए पर और॥ -- तुलसीदास
दुर्जन, दर्पण के समान होते हैं, इस बात को ध्यान से देख लो। ये दोनों जब सामने होते हैं तब तो और होते हैं और जब पीछ पीछे होते हैं तब कुछ और हो जाते हैं। भाव यह है कि दुष्ट पुरुष सामने तो मनुष्य की प्रशंसा करता है और पीठ पीछे निन्दा करता है, इसी प्रकार शीशा भी जब सामने होता है तो वह मनुष्य के मुख को प्रतिबिंबित करता है; पर जब वह पीठ पीछे होता है तो प्रतिबिंबित नहीं करता।
  • सठ सुधरहिं सतसंगति पाई। -- तुलसीदास
सत्संगति पाकर दुष्ट भी सुधर जाते हैं।
  • *खलन्ह हृदयँ अति ताप बिसेषी। जरहिं सदा पर संपति देखी॥
जहँ कहुँ निंदा सुनहिं पराई। हरषहिं मनहुँ परी निधि पाई॥ -- तुलसीदास
दुष्टों के हृदय में बहुत अधिक संताप रहता है। वे पराई संपत्ति (सुख) देखकर सदा जलते रहते हैं। वे जहाँ कहीं दूसरे की निंदा सुन पाते हैं, वहाँ ऐसे हर्षित होते हैं मानो रास्ते में पड़ी निधि (खजाना) पा ली हो।
  • काम क्रोध मद लोभ परायन। निर्दय कपटी कुटिल मलायन॥
बयरु अकारन सब काहू सों। जो कर हित अनहित ताहू सों॥ -- तुलसीदास
वे काम, क्रोध, मद और लोभ के परायण तथा निर्दयी, कपटी, कुटिल और पापों के घर होते हैं। वे बिना ही कारण सब किसी से वैर किया करते हैं। जो भलाई करता है उसके साथ भी बुराई करते हैं।
  • झूठइ लेना झूठइ देना। झूठइ भोजन झूठ चबेना॥
बोलहिं मधुर बचन जिमि मोरा। खाइ महा अहि हृदय कठोरा॥ -- तुलसीदास
उनका झूठा ही लेना और झूठा ही देना होता है। झूठा ही भोजन होता है और झूठा ही चबेना होता है। जैसे मोर बहुत मीठा बोलता है, परन्तु उसका हृदय ऐसा कठोर होता है कि वह महान् विषैले साँपों को भी खा जाता है।
  • लोभइ ओढ़न लोभइ डासन। सिस्रोदर पर जमपुर त्रास न॥
काहू की जौं सुनहिं बड़ाई। स्वास लेहिं जनु जूड़ी आई॥ -- तुलसीदास
लोभ ही उनका ओढ़ना और लोभ ही बिछौना होता है (अर्थात् लोभही से सदा घिरे हुए रहते हैं)। वे पशुओं के समान आहार और मैथुन के ही परायण होते हैं। उन्हें यम लोक का भय नहीं लगता। यदि किसी की बड़ाई सुनते हैं तो वे ऐसी [दुःखभरी] साँस लेते हैं, मानो जूड़ी (ज्वर के कारण आने वाली कँपकँपी) आ गयी हो॥
  • पर द्रोही पर दार रत, पर धन पर अपबाद।
ते नर पाँवर पापमय देह धरें मनुजाद॥ -- तुलसीदास, रामचरितमानस में
वे (दुष्ट) दूसरों से द्रोह करते हैं और पराई स्त्री, पराए धन तथा पराई निंदा में आसक्त रहते हैं। वे पामर और पापमय मनुष्य नर शरीर धारण किए हुए राक्षस ही हैं॥
  • दुर्जन विद्वान हो तो भी उसे त्याग देना ही उचित है। -- भर्तृहरि
  • दुष्ट का निग्रह किसको अच्छा नहीं लगता ? -- भवभूति
  • दुष्ट व्यक्ति प्रत्युपकार से ही शान्त होता है, उपकार से नहीं नहीं। -- कालिदास
  • मनुष्य की बुराई मरणोपरान्त भी बनी रहती है। -- गुरुदत्त
  • दुष्टों से गुणवानों को भी भय होता है। -- हितोपदेश
  • काँटो और दुष्टों के प्रतिकार के दो ही मार्ग हैं - जूतों से उनके मुख तोड़ देना अथवा दूर से ही उनका परित्याग। -- चाणक्य
  • बुराई से बुराई उत्पन्न होती है, इसलिए आग से भी बढ़ कर बुराई से डरना चाहिए। -- तिरुवल्लुवर
  • एक दुष्ट के दोष से बहुतों का अकल्याण होता है। -- अचिन्त्यानन्द
  • दुष्ट मनुष्य के लिए न न्याय है, न धर्म और न सुभाषित। दुष्ट मनुष्य के सामने पराक्रम ही करें। सदव्यवहार से वह प्रसन्न नहीं होता। -- जातक कथाएं
  • सज्जनों की निंदा करने में दुष्ट सब ओर से आँख, कान, सिर व मुख वाला होता है और सर्वत्र व्याप्त भी होता है। -- आचार्य क्षेमेन्द्र
  • दुष्ट पर दया न करो वह दण्ड से ही राह पर लाया जा सकता है। -- चाणक्य
  • विपत्ति आ पड़ने पर दुष्ट तमाशा ही देखना चाहते हैं। -- शुकसप्तति

इन्हें भी देखें[सम्पादन]