सामग्री पर जाएँ

विद्यार्थी

विकिसूक्ति से
  • काकचेष्टा वकोध्यानं श्वाननिद्रा तथैव च ।
अल्पहारी गृहत्यागी विद्यार्थी पञ्चलक्षण्म् ॥
विद्यार्थी के पाँच लक्षण होते हैं : कौवे जैसी दृष्टि, बकुले जैसा ध्यान, कुत्ते जैसी नींद, अल्पहारी तथा गृह का त्याग करने वाला।
  • सुखार्थी त्यजेत विद्यां विद्यार्थी त्यजेत सुखम्।
सुखार्थिनः कुतो विद्या विद्यार्थिनः कुतो सुखम्॥
सुख चाहने वाले को विद्या और विद्या चाहने वाले को सुख त्याग देना चाहिए। सुख चाहने वाले के लिए विद्या कहाँ और विद्या चाहने वाले को सुख कहाँ है?
अनालस्यं ब्रह्मचर्यं शीलं गुरुजनादरः ।
स्वावलम्बः दृढाभ्यासः षडेते छात्र सद्गुणाः ॥
अनालस्य, ब्रह्मचर्य, शील, गुरुजनों के लिए आदर, स्वावलम्बी होना, और दृढ़ अभ्यास – ये छे छात्र के सद्गुण हैं ।
  • आचार्य पुस्तक निवास सहाय वासो ।
बाह्या इमे पठन पञ्चगुणा नराणाम् ॥
आचार्य, पुस्तक, निवास, मित्र, और वस्त्र – ये पाँच पठन के लिए आवश्यक बाह्य गुण हैं ।


इन्हें भी देखें[सम्पादन]