काव्य

विकिसूक्ति से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
  • काव्यशास्त्रविनोदेन कालो गच्छति धीमताम् ।
व्यसनेन च मूर्खाणां निद्रया कलहेन वा ॥
बुद्धिमान लोग अपनी समय साहित्य एवं दर्शन का अध्ययन करने में व्यतीत करते हैं जबकि मूर्ख लोग अपनी समय बुरी आदतों जैसे निद्रा, कलह एवं व्यसन में व्यतीत करते हैं।
  • दुक्खं कीरइ कव्वं कव्वम्मि कए पउंजणा दुक्खं ।
संते पउंजमाणे सोयारा दुल्लहा हुंति ॥ -- वज्जालग्ग (प्राकृत में)
काव्य रचना कष्ट से होती है, काव्य रचना हो जाने पर उसे सुनाना कष्टप्रद होता है एवं जब सुनाया जाता है तब सुनने वाले भी कठिनाई से मिलते हैं।
  • अबुहा बुहाण मज्झे पढंति जे छंदलक्खणविहूणा ।
ते भमुहाखग्गणिवाडियं पी सीसं न लक्खंति ॥ -- वज्जालग्ग (प्राकृत में)
जब विद्वान विरस एवं अशुद्ध काव्य पाठ से ऊब कर भौंहें टेंढ़ी करने लगते हैं, उस समय उनके कटाक्ष से मानों उन मूर्खों के सिर ही कट जाते हैं, परन्‍तु वे इतना भी नहीं जान पाते।
  • मनुष्य के लिए कविता इतनी प्रयोजनीय वस्तु है कि संसार की सभ्य-असभ्य सभी जातियों में, किसी न-किसी रूप में पाई जाती है। चाहे इतिहास न हो, विज्ञान न हो, दर्शन न हो, पर कविता का प्रचार अवश्य रहेगा। -- रामचन्द्र शुक्ल
  • जिस प्रकार आत्मा की मुक्तावस्था ज्ञानदशा कहलाती है, उसी प्रकार हृदय की यह मुक्तावस्था रसदशा कहलाती है। हृदय की इसी मुक्ति की साधाना के लिए मनुष्य की वाणी जो शब्द-विधान करती आई है, उसे कविता कहते हैं। -- रामचन्द्र शुक्ल
  • काव्य के लिए अनेक स्थलों पर हमें भावों के विषयों के मूल और आदिम रूपों तक जाना होगा जो मूर्त और गोचर होंगें।…जब तक भावों से सीधा और पुराना लगाव रखने वाले मूर्त और गोचर रूप न मिलेंगें तब तक काव्य का वास्तविक ढांचा खड़ा न हो सकेगा। काव्य में अर्थ ग्रहण मात्र से काम नहीं चलता, बिम्ब ग्रहण अपेक्षित होता है। यह बिम्ब ग्रहण निर्दिष्ट, गोचर और मूर्त विषय का ही हो सकता है। -- रामचन्द्र शुक्ल
  • सुन्दर और कुरूप-काव्य में बस ये ही दो पक्ष हैं। भला-बुरा, शुभ-अशुभ, पाप-पुण्य, मंगल-अमंगल, उपयोगी-अनुपयोगी-ये सब शब्द काव्य-क्षेत्र के बाहर के हैं। ये नीति, धर्म, व्यवहार, अर्थशास्त्र आदि के शब्द हैं। शुद्ध काव्य-क्षेत्र में न कोई बात भली कही जाती है न बुरी, न शुभ, न अशुभ, न उपयोगी, न अनुपयोगी। सब बातें केवल दो रूपों में दिखाई जाती हैं-सुन्दर और असुन्दर। जिसे धार्मिक शुभ या मंगल कहता है, कवि उसके सौंदर्य-पक्ष पर आप ही मुग्धा रहता है और दूसरों को भी मुधा करता है। जिसे धर्मज्ञ अपनी दृष्टि के अनुसार शुभ या मंगल समझता है, उसी को कवि अपनी दृष्टि के अनुसार सुंदर कहता है। -- रामचन्द्र शुक्ल
  • नाद-सौंदर्य से कविता की आयु बढ़ती है। तालपत्र भोजपत्र, कागज आदि का आश्रय छूट जाने पर भी वह बहुत दिनों तक लोगों की जिह्ना पर नाचती रहतीहै। बहुत सी उक्तियों को लोग, उनके अर्थ की रमणीयता इत्यादि की ओर ध्याजनलेजाने का कष्ट उठाए बिना ही, प्रसन्न-चित्त रहने पर गुनगुनाया करते हैं। अत: नाद-सौंदर्य का योग भी कविता का पूर्ण स्वरूप खड़ा करने के लिए कुछ न-कुछ आवश्यक होता है। इसे हम बिलकुल हटा नहीं सकते। -- रामचन्द्र शुक्ल
  • गद्य और पद्य दोनों ही में कविता हो सकती है। यह समझना अज्ञानता की पराकाष्ठा है कि जो छन्दोबद्ध है सभी काव्य है। कविता का लक्षण जहाँ कहीं पाया जाय, चाहे वह गद्य में हो चाहे पद्य में वही काव्य है। लक्षणहीन होने से कोई भी छन्दोबद्ध लेख काव्य नहीं कहलाए जा सकते और लक्षणयुक्त होने से सभी गद्य-बन्ध काव्य-कक्ष में सन्निविष्ट किये जा सकते हैं, गद्य के विषय में कोई विशेष निर्दिष्ट करने की उतनी आवश्यकता नहीं, जितनी पद्य के विषय में है। -- महावीर प्रसाद द्विवेदी
  • सौरस्य ही कविता का प्राण है। जिस पद्य में अर्थ का चमत्कार नहीं वह कविता नहीं । कवि जिस विषय का वर्णन करे उस विषय से उसका तादात्म्य हो जाना चाहिए, ऐसा न होने से अर्थ-सौरस्य नहीं आ सकता। -- महावीर प्रसाद द्विवेदी
  • कविता शब्द नहीं, शांति है; कोलाहल नहीं, मौन है। -- रामधारी सिंह ‘दिनकर’
  • जमीन से जुड़ी हुई कविता कभी नहीं मरती है। -- जॉन कीट्स
  • कवि लिखने के लिए तब तक कलम नहीं उठाता जब तक उसकी स्याही प्रेम की आहों में सराबोर नही हो जाती। -- शेक्सपियर
  • कविता मानवता की उच्चतम अनुभूति की अभिव्यक्ति हैं। -- हजारी प्रसाद द्विवेदी
  • कविता वह सुरंग है जिसके भीतर से मनुष्य एक विश्व को छोड़कर दूसरे विश्व में प्रवेश करता हैं। -- रामधारी सिंह ‘दिनकर’
  • कविता सृष्टि का सौन्दर्य हैं। -- पुरूषोत्तम दास टण्डन
  • कविता सुखी और उत्तम मनुष्यों के उत्तम और सुखमय क्षणों का उद्गार है। -- शेली
  • कविता का बाना पहनकर सत्य और भी चमक उठता है। -- पोप
  • काव्य सभी ज्ञान का आदि और अंत है – यह इतना ही अमर है जितना मानव का हृदय। -- विलियम वर्ड्सवर्थ
  • कविता सत्य का उच्चार है – गहरे, हार्दिक सत्य का। -- चैपिन
  • कविता देवलोक के मधुर संगीत की गूँज है। -- अज्ञात
  • जिससे आनन्द की प्राप्ति न हो वह कविता नहीं है। -- जोबार्ट
  • कविता अभ्यास से नहीं आती जिसमें कविता करने का स्वाभाविक गुण होता है वही कविता कर सकता है। -- महावीर प्रसाद द्विवेदी
  • कविता भावना का संगीत है, जो हमको शब्दों के संगीत द्वारा मिलता है। -- चैटफील्ड
  • कविता तमाम मानवीय ज्ञान, विचारों, भावों, अनुभूतियों और भाषा की खुशबूदार कली है। -- कालरिज
  • कविता हृदय की भाषा है जो एक हृदय से निकलकर दुसरे हृदय तक पहुँचती हैं। -- दुनियाहैगोल
  • कविता करना अनंत पुन्य का फल हैं। -- जयशंकर प्रसाद
  • इतिहास की अपेक्षा कविता सत्य के अधिक निकट आती हैं। -- प्लेटो

इन्हें भी देखें[सम्पादन]

बाहरी कड़ियाँ[सम्पादन]