देवनागरी

विकिसूक्ति से
Jump to navigation Jump to search

देवनागरी लिपि में कई भाषाओं को लिखा जाता है। यह पूरी तरह ध्वनि अर्थात उच्चारण पर आधारित है, इस कारण किसी भी भाषा को इस लिपि में लिखा जा सकता है। यह बोलियों के लिए सबसे अधिक उपयोगी होती है, क्योंकि बोली हमेशा उच्चारण पर ही आधारित होती है और अन्य किसी लिपि में इसके जैसे उच्चारण नहीं होते हैं। इस लिपि में हिन्दी, नेपाली, मराठी, संस्कृत, पालि, नेपाल भाषा, कश्मीरी, भोजपुरी, कोंकणी, मैथिली, छत्तीसगढ़ी आदि भाषाओं को लिखा जाता है।

तथ्य[सम्पादन]

  • अन्य लिपियों से अलग यह उच्चारण पर आधारित है। इसका अर्थ यह है कि आप जो उच्चारण करते हो उसे इस लिपि के द्वारा लिख सकते हो।
  • इसमें स्वर और व्यंजन को अलग अलग रखा गया है। इससे कोई भी आसानी से स्वर और मात्रा को पहचान सकता है।
  • इसमें व्यंजन को भी कई तरह से श्रेणियों में रखा गया है, जो उच्चारण के अनुसार है। इससे पढ़ने और इसे सीखने में भी आसानी होती है।

सूक्ति[सम्पादन]

  • रविशंकर शुक्ल
  • देवनागरी ध्वनिशास्त्र की दृष्टि से अत्यंत वैज्ञानिक लिपि है।
  • राहुल सांकृत्यायन
  • हमारी नागरी दुनिया की सबसे अधिक वैज्ञानिक लिपि है।