सामग्री पर जाएँ

आभूषण

विकिसूक्ति से
  • केयूरा न विभूषयन्ति पुरुषं हारा न चन्द्रोज्ज्वलाः
न स्नानं न विलोपनं न कुसुमं नालङ्कृता मूर्धजाः।
वाण्येका समलङ्करोति पुरुषं या संस्कृता र्धायते
क्षीयन्ते खलु भूषणानि सततं वाग्भूषणं भूषणम्॥
बाजुबंद पुरुष को शोभित नहीं करते और न ही चन्द्रमा के समान उज्ज्वल हार। न स्नान, न चन्दन, न फूल और न सजे हुए केश ही शोभा बढ़ाते हैं। केवल सुसंस्कृत वाणी ही मनुष्य को अलंकृत करती है। (साधारण) आभूषण नष्ट हो जाते हैं, वाणी ही (सनातन) आभूषण है॥
  • ऐश्वर्यस्य विभूषणं सुजनता शौर्यस्य वाक्संयमो
ज्ञानस्योपशमः श्रुतस्य विनयो वित्तस्य पात्रे व्ययः।
अक्रोधस्तपसः क्षमा प्रभवितुर्धर्मस्य निर्व्याजता
सर्वेषामपि सर्वकारणमिदं शीलं परं भूषणम्॥ -- भर्तृहरि, नीतिशतकम्
ऐश्वर्य का आभूषण सज्जनता है, शूरता का वाणी पर संयम रखना, ज्ञान का शान्ति भाव, वेदशास्त्र के ज्ञान का नम्रता, वित्त का सत्पात्र में व्यय करना, तपश्चरण का क्रोध न होना, सामर्थ्यवान् का सहिष्णुता और धर्म का आभूषण निष्कपट होता है परन्तु इन सम्पूर्ण गुणों का कारणभूत "शील" सबका श्रेष्ठाभूषण है।
  • हस्तस्य भूषणं दानं सत्यं कण्ठस्य भूषणम् ।
श्रोत्रस्य भूषणं शास्त्रं भूषणैः किं प्रयोजनम् ॥
हाथ का भूषण दान है, कण्ठ का भूषण सत्य है, कान का भूषण शास्त्र है, (तो फिर) अन्य आभूषणों की क्या आवश्यकता ?
  • दानेन तुल्यं सुहृदास्ति नान्यो
लोभाच्च नान्योऽस्ति रिपुः पृथिव्याम्।
विभूषणं शीलसमं न चान्यत्
सन्तोषतुल्यं धनमस्ति नान्यत्॥
दान के समान अन्य कोई मित्र नहीं है और पृथ्वी पर लोभ के समान कोई शत्रु नहीं है। शील के समान कोई आभूषण नहीं है और संतोष के समान कोई धन नहीं है।
  • ताराणां भूषणं चन्द्रः नारीणां भूषणम् पतिः ।
पृथिव्यां भूषणम् राज्ञः विद्या सर्वस्य भूषणम् ॥
चन्द्रमा तारों का आभूषण है, नारी का भूषण पति है । पृथ्वी का अभूषण राजा है और विद्या सभी का आभूषण है ।
  • नम्रता और मीठे वचन ही मनुष्य के आभूषण हैं। -- स्वामी विवेकानन्द
  • लज्जा युवाओं के लिए एक आभूषण, लेकिन बुढ़ापे के लिए एक तिरस्कार है। -- अरस्तू
  • मौन ज्ञानियों की सभा में अज्ञानियों का आभूषण है। -- भर्तृहरि
  • क्षमा वीरस्य भूषणम् । (क्षमा वीरों का आभूषण है।)
  • नारी का आभूषण शील और लज्जा हैं। बाह्य आभूषण उसकी शोभा नहीं बढा सकते हैं। -- बृहत्कल्पभाष्य
  • नम्रता और मीठे वचन ही मनुष्य के सच्चे आभूषण होते हैं। -- तिरुवल्लुवर

इन्हें भी देखें[सम्पादन]