सामग्री पर जाएँ

रोजर पेनरोज

विकिसूक्ति से

रोजर पेनरोज (Sir Roger Penrose; जन्म 8 अगस्त 1971) ब्रिटेन के एक गणितज्ञ, भौतिक विज्ञानी, विज्ञान के दार्शनिक हैं। वे भौतिकी में नोबेल पुरस्कार तथा १९८८ में वुल्फ पुरस्कार सहित कई बड़े पुरस्कार से सम्मानित हैं।

उक्तियाँ[सम्पादन]

  • चेतना ... वह परिघटना है जिससे ब्रह्मांड का अस्तित्व ज्ञात होता है।
  • मैं कंहूगा कि ब्रह्मांड का एक उद्देश्य है। यह सिर्फ मात्र संयोग से मौजूद नहीं है।
  • वास्तविकता में क्वांटम यांत्रिकी का कोई मतलब नहीं है।
  • वास्तविकता में क्वांटम यांत्रिकी का कोई मतलब नहीं है।
  • क्वांटम उलझाव का बहुत ही दिलचस्प मुद्दा है, लेकिन असंभव नहीं है।
  • महत्वाकांक्षा, मूर्खतापूर्ण कार्य, बदला और दुर्भावना मस्तिष्क को निगल जाती है।
  • समीकरणों को छोड़ने से मत डरो (मैं खुद ऐसा करता हूँ)।
  • जब मैं समस्याओं की बात करता हूँ तो मैं बहुत खुश होता हूँ।
  • जब मैं युवा था मैं वास्तव में बहुत धीमा था।
  • कभी-कभी मार्ग परिवर्तन के बेहतरीन विचार जीवन बदल देते है।
  • मूल सिद्धांत, ट्विस्ट या थ्योरी में अत्तिरिक्त आयाम जोड़ना नहीं है।
  • नैतिकता के लिए, चेतना के सवालों का जुड़ा होना महत्वपूर्ण है।
  • मेरा बड़ा भाई एक प्रतिष्ठित सैद्धांतिक भौतिक विज्ञानी, शाही समाज का एक साथी है।
  • विज्ञान और आनन्द को अलग नहीं किया जा सकता है।
  • एक कम्प्यूटेशनल डिवाइस भी हमारे दिमाग को विकसित करने में असमर्थ है। सिर्फ होशियार होने पर ही चेतना का विकास होता है।
  • यह पूरी तरह से संभव है कि मस्तिष्क में कुछ चल रहा है लेकिन उस समय हमारे पास कोई संकेत न हो।
  • मैंने वास्तव में मैट्रिक्स नहीं देखी है लेकिन इसके जैसी कुछ और फिल्में देखी है, मैट्रिक्स जैसे विषयों पर।
  • मुझे लगता है कि वह सुन्दरता और नैतिकता के अन्य आदर्शवादी निरपेक्षता के बारे में आश्चर्य करने के लिए एक गम्भीर मुद्दा है।
  • समझ के बिना बुद्धि का कोई अस्तित्व नहीं है। किसी भी कंप्यूटर को यह पता नहीं होता कि वह क्या करता है।