मौन

विकिसूक्ति से
Jump to navigation Jump to search
  • सर्वज्ञो के समाज में मूर्खों का मौन रहना शोभा देता है। -- भर्तहरि
  • आओं हम मौन रहें ताकि फ़रिस्तों की कानाफूसियाँ सुन सकें । -- एमर्शन
  • अज्ञान की सबसे बड़ी सम्पति है मौन और जब वह इस रहस्य को जान जाता हैं। तब अज्ञान नहीं रहता। -- प्लेटो
  • विपत्ति में मौन रहना सबसे उत्तम हैं। -- ड्राइडेन
  • अल्पभाषी मनुष्य सर्वोत्तम हैं। -- शेक्सपियर
  • आपद् में मौन रहना अति श्रेयस्कर है। -- ड्राइडेन
  • इसका खेद अनेक बार हुआ कि में बोल क्यों पड़ा। -- पाइथोगोरस
  • उपाध्याय मौन का इससे अधिक हितकर रूप कुछ नहीं हो सकता कि वह झूठे आरोप और मानहानि का उत्तर बन जाय। -- जॉसेफ एडिसन
  • कभी आंसू भी सम्पूर्ण वक्तव्य होते हैं ।-– ओविड
  • कभी-कभी मौन रह जाना, सबसे तीखी आलोचना होती है।
  • क्रोध को जीतने में मौन जितना सहायक होता है, उतनी और कोई भी वस्तु नहीं। -- महात्मा गांधी
  • खामोश रहो या ऐसी बात कहो जो ख़ामोशी से बेहतर हो। -- पाइथोगोरस
  • चींटी से अच्छा कोई उपदेश नहीं देता, और वह मौन रहती है। -- फ्रैंकलिन
  • जहाँ नदी गहरी होती है, वहाँ जलप्रवाह अत्यंत शांत व गंभीर होता हैं। -- शेक्सपियर
  • जहाँ विचारों का सम्मान न हो और सत्य अप्रिय लगे, वहाँ मौन साध लो। -- फुलर
  • जितना दिखाते हो उससे ज्यादा तुम्हारे पास होना चाहिए, जितना जानते हो उससे कम तुम्हें बोलना चाहिए।
  • जैसे घोंसला सोती हुई चिड़ियों को आश्रय देता है वैसे ही मौन तुम्हारी वाणी को आश्रय देता है। -- रवीन्द्रनाथ ठाकुर
  • जो अपनी जिह्वा को वश में रखता है वह जीवन-भर नियन्त्रण रखता है; किन्तु जिसका जिह्वा पर वश नहीं, वह नाश को प्राप्त होता हैं। -- बाइबिल
  • जो झुकना जानता है, दुनिया उसे उठाती है, जो केवल अकड़ना जानता है, दुनिया उसे उखाड़ फेंकती है।
  • जो सही जीवन जीता है और सही है, उसके मौन में दूसरे के शब्दों से अधिक शक्ति होती है। -- फिलिप्स बुक्स
  • तिरस्कार दिखाने का सबसे अच्छा ढंग है, मौन। -- बर्नार्ड शॉ
  • तुम्हे प्रत्येक का उपदेश सुनना चाहिए जबकि अपना उपदेश कुछ ही व्यक्तियों को दो।
  • तोड़ो मौन की चट्टान, फोड़ी अहं का व्यवधान; आकुल प्राण के रस-गान, भीतर ही न जाएँ मर। बोली, जोर से बोली, व्यथा की ग्रंथियाँ खोली, संजोलो मन कि फूटें, कण्ठ से फ़िर गीत के निझर। -- भारतभूषण अग्रवाल
  • थोड़ा पढ़ना और अधिक सोचना, कम बोलना और अधिक सुनना, यही बुद्धिमान बनने का उपाय है।
  • धनुष से छूटा हुआ तीर ओर मुख से निकला हुआ शब्द कभी वापस नहीं लौटता।
  • नारी का मौन मनुष्य की वाणी के समान होता है। -- बेन जॉन्सन
  • प्रत्येक स्थान और समय बोलने के योग्य नहीं होते, कभी-कभी मौन रह जाना बुरी बात नहीं।
  • बोलने में समझदारी से काम लेना, वाक्पटुता से अच्छा है। -- बेकन
  • भरे बर्तन की अपेक्षा, खाली बर्तन ज्यादा शोर करते है। -- जॉन ज्वेल
  • मुझे कभी इसका खेद नहीं हुआ कि मैं मौन क्यों रहा, परन्तु इसका खेद अनेक बार हुआ कि मैं बोल क्यों पड़ा। -- साइरस
  • मुझे बोलने पर अक्सर खेद हुआ है; चुप रहने पर कभी नहीं। -- साइरस
  • मौन , क्रोध की सर्वोत्तम चिकित्सा है। -- स्वामी विवेकानन्द
  • मौन और एकांत आत्मा के सर्वोत्तम मित्र हैं। -- लांगफेलो
  • मौन और दृढ़ विश्वास यहीं तुम्हारी सबसे बड़ी शक्ति है। -- ओल्ड टेस्टामेंट
  • मौन की भाषा सबसे प्रभावी भाषा हैं पर व्यक्ति इसका इस्तेमाल बहुत कम करता हैं। -- अज्ञात
  • मौन के वृक्ष पर शान्ति के फल फलते हैं। -- अरबी लोकोक्ति
  • मौन क्रोध का दमन करने में व्यक्ति की जितनी सहायता करता है, उतना अन्य कोई नहीं सहायता करता हैं। -- महात्मा गांधी
  • मौन घृणा की उत्तम अभिव्यक्ति है। -- जॉर्ज बर्नार्ड शॉ
  • मौन ज्ञानियों की सभा में अज्ञानियों का आभूषण है। -- भर्नुहरि
  • मौन निद्रा के सदृश है। यह ज्ञान में नई स्फूर्ति पैदा करता है। -- बेकन
  • मौन बातचीत की एक महान् कला है। -- हैजलिट
  • मौन में शब्दों की अपेक्षा अधिक वाक-शक्ति होती है। -- कार्लाइल
  • मौन रहकर मैं अन्य लोगों की कमियों को सुन लेता हूँ और अपनी कमियों को छिपा लेता हूँ। -- आस्कर वाइल्ड
  • मौन शक्ति का उत्कृष्ट स्रोत है। -- लाओत्ज़ु
  • मौनं सर्वार्थसाधनम् । ( मौन सारे काम बना देता है ) -- पंचतन्त्र
  • मौन सर्वोत्तम भाषण है। अगर बोलना ही चाहिए, तो कम से कम बोलो, एक शब्द से काम चले, तो दो नहीं। -- महात्मा गांधी
  • मौनं स्वीकार लक्षणम् । ( किसी बात पर मौन रह जाना उसे स्वीकार कर लेने का लक्षण है । )
  • यदि तुम चाहते हो कि लोग तुम्हें तुम्हारी वास्तविक योग्यता से अधिक योग्य व्यक्ति समझें तो कम बोलो। बुद्धिमानी की बात कहने की अपेक्षा बुद्धिमान प्रतीत होना अधिक आसान हैं। -- ब्रुएरे
  • वाणी का वर्चस्व रजत है किन्तु मौन कंचन है। -- रामधारीसिंह ‘दिनकर’
  • वाद-विवादे विष घना, बोले बहुत उपाध।
मौन गहे सबकी सहै, सुमिरै नाम अगाध । -- कबीर
  • वार्तालाप बुद्धि को मूल्यवान बना देता है, किन्तु एकान्त प्रतिभा की पाठशाला है । -- गिब्बन
  • वास्तविक महानता की उत्पत्ति स्वयं पर खामोश विजय से होती है।
  • हमारे पवित्र विचारों का मन्दिर मौन है। -- श्रीमती हेल