मुहम्मद अली

विकिसूक्ति से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उक्तियाँ[सम्पादन]

  • बच्चों को देखकर इच्छा होती है कि जीवन फिर से शुरू करें।
  • मैं ट्रैनिंग के हर एक मिनट से नफरत करता था, लेकिन मैंने कहा , हार मत मानो। अभी सह लो और अपनी बाकी की ज़िन्दगी एक चैंपियन की तरह जियो।
  • नदियां , तालाब , झीलें और धाराएं – इनके अलग-अलग नाम हैं, लेकिन इन सबमे पानी होता है ठीक वैसे ही जैसे धर्म होते हैं- उन सभी में सत्य होता है।
  • आयु आपकी सोच में है। जितनी आप सोचते हैं उतनी ही आपकी उम्र है।

बाहरी कडियाँ[सम्पादन]

w
विकिपीडिया पर संबंधित पृष्ठ :