मार्क ट्वेन

विकिसूक्ति से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

मार्क ट्वेन () एक अमेरिकी व्यंग्यकार थे। उनका जन्म 30 नवंबर 1835 को संयुक्त राज्य के फ्लोरिडा के मिज़ुरी में हुआ था।

उक्तियाँ[सम्पादन]

  • 'क्लासिक' - एक ऐसी पुस्तक जिसकी लोग प्रशंशा करते हैं पर पढ़ते नहीं।
  • अगर हमें सुनने से ज्यादा बोलना होता, तो हमारे पास दो मुंह और एक कान होता।
  • अच्छे दोस्त, अच्छी किताबें और एक सुप्त अंतःकरण; यही आदर्श जीवन है।
  • अपने संदेह से अधिक अपनी इच्छा पर ध्यान केंद्रित करें और सपना अपने आप ठीक हो जाएगा।
  • आइये ऐसे जियें कि जब हम मरने वाले हों तो क्रिया-करम का व्यवसाय करने वाले भी अफ़सोस करें।
  • आगे बढ़ने का सबसे बड़ा राज शुरुआत करना हैं।
  • आज से बीस साल बाद तुम यह सोचकर निराश हो उठोगे कि तुम्हें वह सब नहीं करना चाहिए था जो तुम कर बैठे। इसीलिए मैं तुमसे कहता हूँ कि अपने पाल गिरा दो और सुरक्षित बंदरगाहों से बहुत दूर चले जाओ। पूर्वी हवाओं को पकड़ कर अपने सपनों की राह पर चलते चलो। जाने कितना कुछ अभी खोजने के लिए है!
  • आपके जीवन में दो सबसे महत्वपूर्ण दिन हैं - एक वो दिन जब आप जन्म लेते हैं और दूसरा वो दिन जिस दिन आपको अपने जीने का उद्देश्य पता चलता हैं।
  • आमतौर पे मुझे बिना तैयारी के दिए जाने वाले भाषण को तैयार करने में तीन हफ्ते लगते हैं।
  • आयु शरीर से अधिक मन की अवस्था है। अगर आपको कोई आपत्ति नहीं है तो कोई बात नहीं।
  • आवश्यकता जोखिम उठाने की जननी है।
  • इतिहास खुद को दोहराता नहीं है, लेकिन यह तुकबंदी करता है।
  • इंसान ही एक ऐसा प्राणी है जो शर्मिंदा होता है- या जिसे जरूरत पड़ती है।
  • ईश्वर की कृपा से हमारे देश में तीन बेहद कीमती चीजें उपलब्ध हैं: भाषण की स्वतंत्रता, अंतरात्मा की स्वतंत्रता,और इनमे से किसी का भी प्रयोग ना करने का विवेक।
  • उन लोगों से दूर रहें जो आपकी महत्वाकांक्षाओं को कम करने की कोशिश करते हैं। छोटे लोग हमेशा ऐसा करते हैं, लेकिन महान लोग आपको भी ऐसा महसूस कराते हैं कि आप भी महान बन सकते हैं।
  • एक अच्छा तत्काल भाषण तैयार करने में मुझे आमतौर पर तीन सप्ताह से अधिक समय लगता है।
  • एक आदमी के चरित्र को उन विशेषणों से सीखा जा सकता है जिनका वह आदतन बातचीत में उपयोग करता है।
  • ऐसा क्यों होता कि हम किसी के पैदा होने पर खुश होते हैं और मरने पर दुखी, क्योंकि हम खुद वो व्यक्ति नहीं होते हैं।
  • किताबें उन लोगों के लिए होती हैं जो चाहते हैं कि वे कहीं और हों।
  • कोई भी सबूत किसी बेवकूफ को कभी राजी नहीं करेगा।
  • क्रोध एक ऐसा तेज़ाब है जो जिस चीज पे डाला जाता है उससे ज्यादा उस पात्र को नुकसान पहुंचाता सकता है जिसमें वो रखा है।
  • खुद को खुश करने का सबसे अच्छा तरीका है किसी और को खुश करने की कोशिश करना।
  • चिंता करना उस कर्ज का भुगतान करने जैसा है जो आप पर बकाया नहीं है।
  • चीजों को जितना ज्यादा वर्जित किया जाता है वो उतना ही लोकप्रिय हो जाती हैं।
  • जब भी आप खुद को बहुमत की तरफ पाएं तो समझ जाइये कि अब रुक कर सोचने का समय है।
  • जब संदेह में हों तो सच बोल दें।
  • जमीन खरीदिये वो इसे अब और नहीं बना रहे है।
  • जलवायु वह है जिसकी हम अपेक्षा करते हैं, मौसम वह है जो हमें मिलता है।
  • जितना अधिक आप समझाते हैं, उतना अधिक मुझे नहीं समझ आता।
  • ज़िन्दगी कहीं ज्यादा खुशहाल होती अगर हम 80 साल के पैदा होते और धीरे-धीरे 18 की तरफ बढ़ते।
  • जीवन में सफल होने के लिए, आपको दो चीजों की आवश्यकता है। -: अनभिज्ञता और आत्मविश्वास।
  • जो आप परसों कर सकते हैं उसे कभी कल पर मत टालिए।
  • जो व्यक्ति नहीं पढ़ेगा, उसे उस व्यक्ति की अपेक्षा कोई लाभ नहीं होगा जो पढ़ नहीं सकता।
  • जो व्यक्ति पढता नहीं है वो ना पढ़ पाने वाले व्यक्ति की अपेक्षा कोई लाभ नहीं है।
  • झूठ होते हैं, बहुत बड़े झूठ होते हैं और फिर आंकड़े होते हैं।
  • तीन तरह के झूठ होते है – झूठ, बड़ा झूठ, और आँकड़े।
  • दया वह भाषा है जिसे बहरे सुन सकते हैं और अंधे देख सकते हैं।
  • देश के प्रति वफादारी हमेशा।सरकार के प्रति वफादारी जब वो उसके लायक हो।
  • धन की कमी सभी बुराई की जड़ है।
  • पवित्रता और खुशी एक असंभव संयोजन है।
  • पहले अपने तथ्यों को प्राप्त करें, फिर आप उन्हें अपनी ख़ुशी से तोड़ मरोड़ सकते हैं।
  • पुरस्कार लेने से मना करने; और अधिक शोर के साथ पुरस्कार लेने का तरीका है।
  • पैसे की कमी सभी समस्याओं की जड़ है।
  • बाईबल के वो भाग जिन्हें मैं समझा नहीं पता मुझे चिंतित नहीं करते , वो भाग करते हैं जिन्हें मैं समझता हूँ।
  • बैंकर एक ऐसा साथी है जो सूरज के चमकने पर आपको अपना छाता उधार देता है, लेकिन जब बारिश शुरू होती है तो वह उसे वापस लेना चाहता है।
  • बोल कर सारा संदेह ख़तम कर देने से अच्छा है चुप रह कर बेवकूफ समझा जाना।
  • भले ही आप कपडे पहनने में लापरवाह रहिये पर अपनी आत्मा को दुरुस्त रखिये।
  • मनुष्य – एक ऐसा जीव जो साप्ताहिक कार्य के अंत में बनाया गया जब भगवान थके थे।
  • मूर्खों से कभी बहस मत करो, वे तुम्हें अपने स्तर तक नीचे खींच लेंगे और फिर तुम्हें अनुभव से हरा देंगे।
  • मूलतः दो तरह के लोग होते हैं। वो जो चीजें हासिल करते हैं, और वो जो जीजें हासिल करने का दावा करते हैं। पहले समूह में भीड़ कम होती है।
  • मृत्यु का भय जीवन के भय से शुरू होता है। वही आदमी पूरी तरह से जीता है जो हर समय मरने के लिए तैयार हो।
  • मेरी किताबें पानी की तरह हैं; और उन महान प्रतिभाओं की शराब की तरह। (सौभाग्यवश) सभी लोग पानी पीते हैं।
  • मेल-जोल घृणा को जन्म देता है- और बच्चों को भी।
  • मैं एक अच्छी तारीफ पर दो महीने तक रह सकता हूँ।
  • मैं एक बुजुर्ग हूँ और मैंने कई संकटों को जाना है, पर उनमे से ज्यादातर कभी आये नहीं।
  • मैं एक बूढ़ा आदमी हूं और मैंने बहुत सारी मुसीबतें जानी हैं, लेकिन उनमें से ज्यादातर कभी नहीं हुईं।
  • मैं मौत से नहीं डरता। मैं पैदा होने से पहले अरबों और अरबों साल पहले मर चुका था, और इससे मुझे थोड़ी सी भी असुविधा नहीं हुई थी।
  • यदि आप अखबार नहीं पढ़ते हैं, तो आप बेख़बर हैं। यदि आप अखबार पढ़ते हैं, तो आपको गलत सूचना दी जाती है।
  • यदि आप एक भूखे कुत्ते को उठाकर उसे समृद्ध बनाते हैं तो वह आपको नहीं काटेगा। यह कुत्ते और आदमी के बीच मुख्य अंतर है।
  • यदि आप सच कहते हैं, तो आपको कुछ याद रखने की जरूरत नहीं रहती।
  • यदि आपका काम एक मेंढक खाना है तो सबसे अच्छा होगा कि सुबह सबसे पहले ये काम करें। और यदि आपका काम दो मेंढक खाना है तो बड़े वाले को पहले खाना अच्छा होगा।
  • यदि आपमें इसे बदलने की इच्छा नहीं है, तो आपको इसकी आलोचना करने का कोई अधिकार नहीं है।
  • यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि सत्य कल्पना से अधिक अजनबी है। कहानी को अर्थपूर्ण होना चाहिए।
  • ये बेहतर है कि आप सम्मान के लायक हों और वो आपको ना मिले। बजाये इसके कि वो आपको मिले और आप उसके लायक ना हों।
  • लड़ाई में कुत्ते का आकर मायने नहीं रखता, कुत्ते में लड़ाई का आकार मायने रखता है।
  • वास्तविकता को पर्याप्त कल्पना से हराया जा सकता है।
  • विलंबित पूर्णता की तुलना में निरंतर सुधार बेहतर है।
  • सत्य कल्पना से अलग है, लेकिन ऐसा इसलिए है क्योंकि कल्पना संभावनाओं से चिपके रहने के लिए बाध्य है; सच नहीं है।
  • सबसे बुरा अकेलापन खुद के साथ सहज न होना है।
  • सबसे महान आविष्कारक का नाम बताइए। दुर्घटना।
  • सभी जानवरों में से, मनुष्य ही एकमात्र ऐसा है जो क्रूर है। वह अकेला है जो इसे करने की खुशी के लिए दर्द देता है।
  • सभी सामान्यीकरणगलत होते हैं। ये भी।
  • समृद्धि, सिद्धांत का सबसे बड़ा रक्षक है।
  • सही शब्द प्रभावी हो सकता है , पर कभी भी कोई शब्द इतना प्रभावी नहीं हुआ है जितना कि सही समय पर दिया गया एक विराम।
  • स्कूली शिक्षा को अपनी शिक्षा में हस्तक्षेप न करने दें।
  • स्मोकिंग छोड़ना दुनिया का सबसे आसान काम है। मुझे पता है क्योंकि मैंने ये हज़ारों बार किया है।
  • स्वस्थ्य सम्बन्धी किताबों को पढने में सावधानी बरतिए। एक मुद्रणदोष की वजह से आपकी मौत हो सकती है।
  • स्वास्थ्य संबंधी पुस्तकें पढ़ने में सावधानी बरतें। आप गलत छपने से मर भी सकते हो।
  • हमेशा सही करें। ये कुछ लोगों को संतुष्ट करेगा और बाकियों को अचंभित।
  • हर कोई एक चाँद है, और उनकी एक साइड ऐसी होती है जो वह कभी किसी को नहीं दिखाता।
  • हर कोई चाँद है, और उसका एक स्याह पक्ष है जो वह कभी किसी को नहीं दिखाता।
  • हर दिन को अपने जीवन का सबसे खूबसूरत दिन बनने का मौका दें।
  • हास्य मानव जाति की सबसे बड़ी आशीर्वाद है।