फ्रेडरिक नीत्से

विकिसूक्ति से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
FWNietzscheSiebe.jpg

फ्रेडरिक नीत्शे (Friedrich Wilhelm Nietzsche ; ) जर्मनी के महान दार्शनिक थे। उन्हें पश्चिम के महान दार्शनिको में गिना जाता है। उनकी पुस्तक “ज़रथुस्त्र की वाणी” दुनिया की श्रेष्ठतम रचनाओं में गिनी जाती है।

उक्तियाँ[सम्पादन]

  • प्लेटो उबाऊ था।
  • कोई तथ्य नहीं हैं, केवल व्याख्याएं हैं।
  • मनुष्य सबसे क्रूर जानवर है।
  • सभी सचमुच महान विचार चलते समय आते हैं।
  • आस्था : ये न जानने की इच्छा कि सच क्या है।
  • सच क्या है, सहमत हुआ एक झूठ।
  • स्वर्ग में, सारे रोचक लोग गायब हैं।
  • बिना भूले जी पाना बहुत मुश्किल है।
  • अदृश्य धागे सबसे मजबूत बंधन होते हैं।
  • संगीत के बिना, जीवन एक गलती होगी।
  • ये प्यार की कमी नहीं, बल्कि दोस्ती की कमी है जो शादियों को दुखदायी बनाती है।
  • जो हमें मारता नहीं है, वह हमें मजबूत बनाता है।
  • मैं इसलिए दुखी नहीं हूँ कि तुमने मुझसे झूठ बोला, मैं इसलिए दुखी हूँ कि अब मैं तुम पर यकीन नहीं कर सकता।
  • और जो लोग डांस करते देखे गए उन्हें जो म्यूजिक नहीं सुन सकते थे उनके द्वारा पागल समझा गया।
  • बिना अपने ओपिनियंस के रीज़न को याद रखे अपने ओपिनियंस को याद रखना बेहद कठिन है।
  • प्यार में हमेशा कुछ पागलपन होता है। लेकिन पागलपन में हमेशा कोई कारण होता है।
  • जो कोई भी राक्षसों से लड़ता है उसे ध्यान रखना चाहिए कि इस प्रक्रिया में कहीं वो खुद ही राक्षस ना बन जाए । और अगर आप लम्बे समय तक खायी को घूरते हैं तो खायी भी आपको घूरने लगेगी।
  • आपका अपना रास्ता है। मेरा अपना रास्ता है। जहाँ तक सही रास्ते, उचित रास्ते, और एक ही रास्ते की बात है, वो एग्जिस्ट नहीं करता।
  • कभी-कभी लोग इसलिए सच नहीं सुनना चाहते क्योंकि वे अपने भ्रम को टूटने नहीं देना चाहते।
  • हमे हर उस दिन को खोया हुआ समझना चाहिए जिस दिन हमने एक बार भी डांस ना किया हो।
  • ज्ञानी व्यक्ति को सिर्फ अपने दुश्मनों से प्रेम ही नहीं बल्कि अपने दोस्तों से नफरत भी करने में सक्षम होना चाहिए।
  • मैं उस ईश्वर में यकीन नहीं का सकता जो हमेशा प्रशंसा सुनना चाहता हो।
  • वो जिसके पास जीने का कारण है कुछ भी सहन कर सकता है।
  • कोई भी आपके लिए उस पुल का निर्माण नही कर सकता है जिसपे चढ़ कर आप जीवन की धारा को पार कर सकें, कोई नहीं बस आप अकेले ऐसा कर सकते हैं।
  • जब हम थक जाते हैं, तब हम उन विचारों द्वारा अटैक किये जाते हैं जिन्हें हम बहुत पहले जीत चुके होते हैं।
  • वो सांप जो अपना केंचुल नहीं छोड़ सकता उसे मरना होता है। उसी तरह जो माइंड अपने ओपिनियनस नहीं बदल सकते; वे माइंड नहीं रह जाते।
  • बुरी यादाश्त का ये फायदा है कि कोई एक ही अच्छी चीज का बार-बार पहली बार आनंद उठाता है।
  • किसी युवक को भ्रष्ट करने का पक्का तरीका है कि उसे ये निर्देश दो कि वो उससे अलग सोचने की बजाये उनका खूब सम्मान करे जो उसकी तरह सोचते हों।
  • क्या आदमी केवल भगवान की एक गलती है? या भगवान केवल आदमी की एक गलती है?
  • हर एक गहन विचारक गलत समझे जाने कि तुलना में सही समझ लिए जाने से अधिक डरता है।
  • विचार हमारी भावनाओं के साये हैं – हमेशा गहरे, खाली और सरल।
  • जितना ऊँचा हम उड़ते हैं उतना ही ना उड़ पाने वालों को छोटे लगते हैं।
  • सच्चा आदमी दो चीजें चाहता है: खतरा और खेल। इसी कारण से वो महिलाओं को सबसे खतरनाक खेलने की चीज के रूप में चाहता है।
  • बिना भयानक गहराइयों के कोई सुन्दर सतहें नहीं हैं।
  • दुनिया में दो तरह के लोग होते हैं, वो जो जानना चाहते हैं, और वो जो यकीन करना चाहते हैं।
  • सभी चीजें व्याख्या के अधीन हैं। किसी समय कौन सी व्याख्या मान्य होती है ये शक्ति पर आधारित होता है सत्य पर नहीं।
  • हकीकत में, केवल एक ही क्रिस्चियन था और वो क्रॉस पे मर गया।
  • जो प्रेमवश किया जाता है वो हमेशा अच्छे-बुरे से परे होता है।
  • मुझे केवल कागज़ का एक टुकड़ा और लिखने के लिए कुछ चाहिए, और तब मैं दुनिया को उलट सकता हूँ।
  • मौन बदतर है; सभी सत्य जिन्हें मौन रखा जाता है जहरीले बन जाते हैं।
  • आपकी अंतरात्मा की आवाज़ क्या कहती है?- ‘ आपको वो व्यक्ति बन जाना चाहिए जो आप हैं’।
  • शायद मैं सबसे अच्छा कारण जानता हूँ कि क्यों अकेला मनुष्य ही है जो हँसता है; क्योंकि केवल वही है जो इतनी अधिक पीड़ा उठाता है कि उसने हंसी का आविष्कार कर लिया है।
  • हमेशा की तरह आज भी, लोग दो ग्रुप्स में होते हैं: गुलाम और आजाद मनुष्य। जिस किसी के पास भी दिन का दो-तिहाई हिस्सा खुद के लिए नहीं है, वो गुलाम है; चाहे वो जो भी हो: एक राजनेता, एक बिजनेसमैन, एक अधिकारी, या एक विद्वान्।
  • एक धार्मिक व्यक्ति के संपर्क में आने के बाद मुझे हमेशा लगता है कि मुझे अपने हाथ ज़रूर धो लेने चाहिए।
  • अंत में, ये इच्छा है, ना की इच्छित वास्तु, जिसे हम चाहते हैं।
  • विजिनरी खुद से झूठ बोलता है, लायर सिर्फ दूसरों से।
  • किसी कारण को नुक्सान पहुंचाने का सबसे अधर्मी तरीका है उसका जानबूझ कर गलत तर्कों से बचाव करना।
  • वास्तविकता में आशा सभी बुराइयों में सबसे बुरी है क्योंकि ये इंसान की पीड़ा को लम्बा खींचती है।
  • कोई अपने गुरु का कर्ज ठीक से नहीं चुकाता है यदि वो हमेशा कुछ और नहीं बस एक शिष्य ही बना रह जाता है।
  • अपने बारे में अधिक बात करना भी अपने आप को छुपाने का एक साधन हो सकता है।
  • जब भी मैं चढ़ता हूँ मेरे पीछे “अहंकार” नाम का एक कुत्ता आ जाता है।
  • पछतावा.– कभी पछतावा मत करिए, बल्कि तुरंत खुद से कहिये: पछतावा का बस ये मतलब होगा एक बेवकूफी में दूसरी बेवकूफी जोड़ना।
  • यह मेरी महत्त्वाकांक्षा है कि जो बात लोग पूरी किताब में कहते हैं उसे मैं दस वाक्यों में कह दूँ।
  • दुनिया में मनुष्य को उसकी नाराजगी के जूनून से अधिक और कुछ भी नष्ट नहीं करता है।
  • धारणा असत्य की तुलना में सत्य की अधिक खतरनाक दुश्मन है।
  • मुक्ति की मुहर क्या है? स्वयं के सामने शर्मिंदा ना होना।
  • जब उसका काम बोलने लगे तो लेखक को अपना मुंह बंद रखना चाहिए।
  • प्यार अँधा होता है। दोस्ती अपनी आँखे बंद कर लेती है।
  • यूरोप के दो महान मादक द्रव्य, शराब और क्रिश्चियनिटी।
  • मैं एक चीज हूँ, मेरे लेख एक और चीज हैं।
  • बिना अपवित्र हुए दूषित धारा को धारण करने के लिए आपको एक समुद्र होना चाहिए।
  • वह जो सबसे ऊँचे पहाड़ों पर चढ़ता है सभी दुखों पर हंसता है, सच्चे ये काल्पनिक।
  • एक विचार तब आता है जब उसे आना होता है, ना कि जब मैं चाहता हूँ।
  • महिलाएं भगवान् की दूसरी गलती थी।