खलील जिब्रान

विकिसूक्ति से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

खलील जिब्रान () एक श्रेष्ठ चिन्तक और महाकवि थे। वे अरबी, अंग्रेजी, फांसी के ज्ञाता, दार्शनिक और चित्रकार भी थे। उन्होंने देश-विदेश में भ्रमण किया। उनका जन्म 6 जनवरी 1883 को हुआ था।

  • मित्रता एक सुन्दर जिम्मेदारी है, यह कोई अवसर या मौका नहीं है।
  • जो बीत चुका है वह आज के लिए सुन्दर याद है। लेकिन आने वाला कल किसी हसीन सपने से कम नहीं है।
  • अपने सुख-दुख अनुभव करने से बहुत पहले, हम स्वयं उन्हें चुनते हैं
  • जो सत्य बोलता है वो लोगों के हृदय के निकट होता है, लेकिन जो दयालु है वह भगवान के हृदय के निकट होता है।
  • आप किसी से प्रेम करते हैं तो उसे जाने दें। अगर वह लौटते हैं तो वह हमेशा से आपके थे और अगर नहीं लौटते हैं तो कभी आपके नहीं थे।