उपनिषद

विकिसूक्ति से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

'उपनिषद संस्कृत में रचित हिन्दू धर्मग्रंथों का एक विशेष वर्ग है। इनकी रचना वे ईसापूर्व ९वीं और ६ठी शताब्दी के बीच हुईइ थी।

सुभाषित[सम्पादन]

  • सत्यमेव जयते । -- मुण्डक उपनिषद्
अर्थ : सत्य की ही विजय होती है।
  • तत्त्वमसि (= तत् त्वम् असि) -- छान्दोग्य उपनिषद्
अर्थ : तुम 'वह' हो (अर्थात तुम भी ब्रह्म हो।)
  • अहम् ब्रह्मास्मि -- वृहदारण्यक उपनिषद्
अर्थ : मैं ही ब्रह्म हूँ
  • अयमात्मा ब्रह्म -- माण्डुक्य उपनिषद्
अर्थ : यह आत्मा ही ब्रह्म है।
  • प्रज्ञानं ब्रह्म -- ऐतरेय उपनिषद्
अर्थ : प्रज्ञा ही ब्रह्म है।
  • सर्वं खल्विदं ब्रह्म -- छान्दोग्य उपनिषद्
अर्थ : सब ब्रह्म ही है।
  • स वा अयमात्मा ब्रह्म विज्ञानमयो मनोमयः प्राणमयश्चक्षुर्मयः श्रोत्रमयः पृथिवीमय आपोमयो वायुमय आकाशमयस्तेजोमयोऽतेजोमयः काममयोऽकाममयः क्रोधमयोऽक्रोधमयो धर्ममयोऽधर्ममयः सर्वमयस् श्रोत्रमयस् आकाशमयस् वायुमयस् तेजोमयस् आपोमयस् पृथिवीमयस् क्रोधमयस् अक्रोधमयस् हर्षमयस् अहर्षमयस् श्रोत्रमयस् पृथिवीमयस् आपोमयस् वायुमयस् आकाशमयस् तेजोमयस् अतेजोमयस् काममयस् अकाममयस् क्रोधमयस् अक्रोधमयस् धर्ममयस् अधर्ममयस् सर्वमयः तद्यदेतदिदम्मयोऽदोमय इति यथाकारी यथाचारी तथा भवति । साधुकारी साधुर्भवति पापकारी पापो भवति पुण्यः पुण्येन कर्मणा भवति पापः पापेन । अथो खल्वाहुः काममय एवायं पुरुष इति स यथाकामो भवति तत्क्रतुर्भवति यत्क्रतुर्भवति तत्कर्म कुरुते यत्कर्म कुरुते तदभिसम्पद्यते ॥ ५ ॥ -- बृहदारण्यक उपनिषद, अध्याय 4, ब्राह्मण 4, मंत्र 5
अर्थ : वह यह आत्मा ब्रह्म है। वह विज्ञानमय, मनोमय, प्राणमय, चक्षुर्मय, श्रोत्रमय, पृथ्वीमय, जलमय, वायुमय, आकाशमय, तेजोमय, अतेजोमय, काममय, अकाममय, क्रोधमय, अक्रोधमय, धर्ममय, अधर्ममय और सर्वमय है। जो कुछ इदंमय और अदोमय है, वह वही है। वह जैसा करने वाला और जैसे आचरणवाला है, वैसा ही हो जाता है। शुभकर्म करने वाला शुभ होता है और पापकर्म से पापी होता है। कोई-कोई कहते हैं कि वह पुरुष काममय ही है, वह जैसी कामनावाला होता है (जैसी इच्छा करता है) वैसा ही संकल्प (या श्रम) करता है, जैसा संकल्पवाला होता है, वैसा ही कर्म करता है और जैसा कर्म करता है, वैसा ही फल प्राप्त करता है।
  • एतेषां लक्षणं वक्ष्ये शृणु गौतम सादरम् । सुस्निग्धमधुराहारश्चतुर्थांशविवर्जितः ॥ -- योगकुण्डल्युपनिषद्
हे गौतम! अब तुम्हें इनका (मिताहार का ) लक्षण कहता हूँ, सादर (ध्यानपूर्वक) सुनो। सबसे पहले साधक को चाहिए कि वह स्निग्ध एवं मधुर भोजन (आधा पेट) करे, (उसका आधा भाग पानी) एवं चौथाई भाग (हवा के लिए) खाली रखे। इस तरह से शिव (कल्याण) के निमित्त भोजन करने को मिताहार कहते हैं। (प्राणजय के लिए प्रमुख) आसन दो कहे गये हैं — पहला है पद्मासन, दूसरा है वज्रासन ॥
  • विद्यां चाविद्यां च यस्तद्वेदोभयं सह ।
अविद्यया मृत्युं तीर्त्वा विद्ययामृतमश्नुते ॥ -- (ईशोपनिषद्, मंत्र ११)
अर्थ : जो विद्या और अविद्या दोनों को एक साथ जानता है, वह अविद्या से मृत्यु को पार कर विद्या से अमरता का आस्वादन करता है।


हेतुद्वयं हि चित्तस्य वासना च समीरणः ।
तयोर्विनष्ट एकस्मिस्तद्वावपि विनश्यतः ॥

अर्थ : चित्त (की चंचलता) के दो कारण हैं, वासना अर्थात् पूर्वार्जित संस्कार एवं वायु अर्थात् प्राण; इन दोनों में से एक का भी निरोध हो जाने पर दोनों समाप्त (निरुद्ध) हो जाते हैं॥

यदग्रे वेदशास्त्राणि तुलसीं तां नमाम्यहम्।
तुलसि श्रीसखि शुभे पापहारिणि ‘पुण्यदे ॥

अर्थ : जिसके मूल में सभी देवता, सिद्ध, चारण, नाग एवं तीर्थ चारों तरफ से स्थित हैं तथा जिसके मध्य में ब्रह्म देवता निवास करते हैं। जिनके अग्रभाग में वेद शास्त्रों का निवास है। उन तुलसी को मैं नमस्कार करता हूँ। हे तुलसी ! तुम लक्ष्मी की सहेली, कल्याणप्रद, पापों का हरण करने वाली तथा पुण्यदात्री हो। ब्रह्म के आनन्द रूपी आँसुओं से उत्पन्न होने वाली तुलसी तुम वृन्दावन में निवास करने वाली हो । नारद के द्वारा स्तुत्य आपको नमस्कार है, नारायण भगवान् के मन को प्रिय लगने वाली आपको नमस्कार है ।

कुर्वन्नेवेह कर्माणि जिजीविषेत् शतं समाः।
एवं त्वयि नान्यथेतोऽस्ति न कर्म लिप्यते नरे ॥

अर्थ : इस संसार में कर्म करते हुए ही मनुष्य को सौ वर्ष जीने की इच्छा करनी चाहिये। हे मानव! तेरे लिए इस प्रकार का ही विधान है, इससे भिन्न किसी और प्रकार का नहीं है, इस प्रकार कर्म करते हुए ही जीने की इच्छा करने से मनुष्य में कर्म का लेप नहीं होता।

हिरण्मयेन पात्रेण सत्यस्य मुखम् अपिहितम् अस्ति।
पूषन् तत् सत्यधर्माय दृष्टये त्वम् अपावृणु ॥

अर्थ : सत्य का मुख चमकीले सुनहरे ढक्कन से ढका है; हे पोषक सूर्यदेव! सत्य के विधान की उपलब्धि के लिए, साक्षात् दर्शन के लिए तू वह ढक्कन अवश्य हटा दे।

शेवधिः अनित्यं इति अहं जानामि हि धृवम् हि तत् अधृवैः न हि प्राप्यते।
ततः मया अनित्यैः द्रव्यैः नचिकेतः अग्निः चितः तेन नित्यं प्राप्तवान् अस्मि ॥

अर्थ : ”मैं धनकोष के विषय मे जानता हूँ कि वह अनित्य है; अनित्य (अध्रुव) पदार्थो से उस ‘तत्त्व’ की प्राप्ति नहीं होती जो नित्य (ध्रुव) है। इसलिए मैंने नचिकेता- अग्नि को संचित किया है तथा अनित्य पदार्थों की हवि देकर ‘नित्य’ तत्त्व को प्राप्त किया है।”

तत् एकम् अनेजत् मनसः जवीयः देवाः एनत् न आप्नुवन् यस्मात् पूर्वं अर्षत्।
तत् तिष्ठत् धावतः अन्यान् अत्येति। तस्मिन् सति मातरिश्वा अपः दधाति ॥

अर्थ : वह अचल, अचलायमान एकमेव ब्रह्म मन से वेगवत्तर, अत्यधिक वेगवाला है। उस एकमेव तक देवता नहीं पहुँच पाते, क्योंकि वह सदैव उनसे आगे-आगे पहुँच जाता है पहुँचा होता है। वह ठहरा हुआ भी दौड़ते हुए दूसरों को पार कर आगे निकल जाता है। उस तत् में जीवन-शक्ति का स्वामी वायु जलधाराओं को स्थापित करता है।

तपः दमः कर्म इति तस्यै प्रतिष्ठा।
वेदाः सर्वाङ्गानि सत्यम् आयतनम् ॥

अर्थ : तप, आत्म-विजय (दम) तथा कर्म इस अन्तरज्ञान के आधार (प्रतिष्ठा) हैं, ‘वेद’ इसके सब अंग हैं, सत्य इसका धाम है।

ईशा वास्यमिदं सर्वं यत्किञ्च जगत्यां जगत्‌।
तेन त्यक्तेन भुञ्जीथा मा गृधः कस्यस्विद्धनम्‌ ॥

अर्थ : इस वैश्व गति में, इस अत्यन्त गतिशील समष्टि-जगत् में जो भी यह दृश्यमान गतिशील, वैयक्तिक जगत् है-यह सबका सब ईश्वर के आवास के लिए है। इस सबके त्याग द्वारा तुझे इसका उपभोग करना चाहिये; किसी भी दूसरे की धन-सम्पत्ति पर ललचाई दृष्टि मत डाल।

वायुरनिलममृतमथेदं भस्मांतं शरीरम्‌।
ॐ क्रतो स्मर कृतं स्मर क्रतो स्मर कृतं स्मर ॥

अर्थ : वस्तुओं का प्राण, वायु, अमर जीवनतत्त्व है, परन्तु इस का अन्त है भस्म। ओ३म। हे दिव्य संकल्पशक्ति! स्मरण कर, जो किया था उसे स्मरण कर! हे दिव्य संकल्पशक्ति, स्मरण कर, किये हुए कर्म का स्मरण कर।

नाविरतो दुश्चरितान्नाशान्तो नासमाहितः।
नाशान्तमानसो वापि प्रज्ञानेनैनमाप्नुयात्‌ ॥

अर्थ : ”जो दुष्कर्मों से विरत नहीं हुआ है, जो शान्त नहीं है, जो अपने में एकाग्र (समाहित) नहीं है अथवा जिसका मन शान्त नहीं है ऐसे किसी को भी यह ‘आत्मा’ प्रज्ञा द्वारा प्राप्त नहीं हो सकता।

उपनिषदों के बारे में उक्तियाँ[सम्पादन]

  • ज्ञान के वृक्ष पर उपनिषद से सुन्दर पुष्प दूसरा नहीं है और वेदान्त दर्शन से अच्छा फल नहीं है। -- Paul Deussen ; source: History of Philosophy, Paul Deussen .Quoted from Gewali, Salil (2013). Great Minds on India. New Delhi: Penguin Random House.
  • उपनिषद, होमर जितने प्राचीन हैं और कान्ट जितने आधुनिक । -- विल्ल डुरन्ट (1963). Our Oriental heritage. New York: Simon & Schuster.
  • जैसे जैसे हम उपनिषदों का अध्ययन करते हैं, वैसे वैसे हमे ऐसा लगता है कि इस मार्ग पर चलना सरल नहीं है। इन भारतीय अन्तर्दृष्टियों के सामने हमारी पाश्चात्य धूर्तता हमारे बर्बर स्वभाव की निशानी है। उनकी असाधारण गहराई और आश्चर्यजनक मनोवैज्ञानिक यथार्थता का हमारे स्वभाव को दूर-दूर तक आभास नहीं होता। -- Carl Jung ; source: Psychological Types, Carl G. Jung. Quoted from Gewali, Salil (2013). Great Minds on India. New Delhi: Penguin Random House.
  • प्रत्येक वाक्य से गहरे मौलिक और उदात्त विचार उत्पन्न होते हैं, तथा सम्पूर्ण (उपनिषदों में) एक उच्च, पवित्र और गंभीर आत्मा है। सम्पूर्ण संसार में उपनिषदों के जितना लाभदायक और इतना ऊंचा उठाने वाला कोई दूसरा अध्ययन नहीं है ... मेरे जीवन में इसी से सान्त्वना मिलती रही है रहा है; और मेरी मृत्यु को इसी से शान्ति मिलेगी। वे (उपनिषद) उच्चतम ज्ञान की उपज हैं... -- आर्थर शोपेनहावर ; quoted in A Look at India From the Views of Other Scholars, by Stephen Knapp [7], quoted in Schopenhauer on Self, World and Morality: Vedantic and Non-Vedantic Perspectives by A. Barua. Also in Gewali, Salil (2013). Great Minds on India. New Delhi: Penguin Random House.
  • संस्कृत साहित्य हमारी शताब्दी का सर्वोत्तम उपहार है। -- आर्थर शोपेनहावर ; quoted in Londhe, S. (2008). A tribute to Hinduism: Thoughts and wisdom spanning continents and time about India and her culture. New Delhi: Pragun Publication.
  • मैं प्रश्न पूछने के लिये उपनिषदों को पढ़ता हूँ। -- नील्स बोर ; स्रोत : Indian Conquests of the Mind, Saibal Gupta. Quoted from Gewali, Salil (2013). Great Minds on India. New Delhi: Penguin Random House.