अल्डस हक्सले

विकिसूक्ति से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

अल्डस हक्सले (Aldous Huxley) एक अंग्रेजी उपन्यासकार, बौद्धिक, व्यंग्यकार और निबंधकार थे। वे २०वीं शताब्दी के अपने समय के सबसे महत्वपूर्ण साहित्यकारों में से एक थे। उनका जन्म प्रभावशाली हक्सले परिवार में हुआ था जो पूरे इंग्लैंड में कुछ बेहतरीन दिमागो के निर्माण के लिए जाना जाता है।

विचार[सम्पादन]

  • तुम सत्य को जानोगे और सत्य तुम्हें पागल बना देगा।
  • ज्ञात और अज्ञात चीजों के बीच धारणा के दरवाजे हैं ।
  • कोई मन जितना शक्तिशाली और मौलिक होगा, उतना ही वह एकान्त धर्म की ओर बढ़ेगा।
  • वह व्यक्ति बुद्धिजीवी है जिसने सेक्स से अधिक रोचक कुछ खोजा है।
  • ब्रह्मांड का केवल एक ही कोना है जिसे आप सुधारना सुनिश्चित कर सकते हैं और वह है आपका स्वयं का मन।
  • अनुभव वह नहीं है जो एक आदमी के लिए होता है, यह वह है जो कोई आदमी अनुभव के साथ करता है।
  • हो सकता है कि यह जगत किसी दूसरे ग्रह का नरक हो ।
  • मौन के बाद, अनुभवातीत को व्यक्त करने के लिए जो सबसे पास है वह संगीत है ।
  • तथ्य मौजूद नहीं हैंं क्योंंकि उन्हें नजरअंदाज किया जाता है।
  • अधिकांश मनुष्यों के पास चीजों को ग्रहण करने की लगभग असीम क्षमता होती है।
  • हर आदमी की स्मृति उसका निजी साहित्य है।
  • जो कुछ भी होता है वह अर्थपूर्ण है। आप जो कुछ भी करते हैं, वह कभी भी महत्वहीन नहीं होता।
  • मैं जानना चाहता हूँ कि जुनून (Passion) क्या है। मैं इसे दृढ़ता से महसूस करना चाहता हूँ।
  • संगीत प्रकृति के विपरीत है, जीवन के विपरीत है। केवल पूरी तरह से तर्कयुक्त लोग मृत हैं।
  • व्यक्तिगत स्थिरता के बिना कोई सामाजिक स्थिरता नहीं हो सकती।
  • स्वर्ग नाम की एक चीज थी, लेकिन वे सभी समान मात्रा में शराब पीते थे।
  • यात्रा करके पता चलता है सभी गलत (कहते) हैं।
  • जब आप अकेले होते हैं, तो ईश्वर पर विश्वास करना स्वाभाविक है- रात में, अकेले, मृत्यु के बारे में सोचते हुए।