"भारत" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
८ बैट्स् जोड़े गए ,  १० वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
(';गायन्ति देवा: किल गीतकानि धान्यास्तु ये भारतभूमिभा...' के साथ नया पन्ना बनाया)
 
;गायन्ति देवा:देवाः किल गीतकानि धान्यास्तु ये भारतभूमिभागे। <br>
;स्वर्गापवर्गास्पदहेतुभूते भवन्ति भूय:भूयः पुरुषा:पुरुषाः सुरत्वात्।।
 
– अर्थात् स्वर्ग और अपवर्ग (मोक्ष-कैवल्य) के मार्ग स्वरूप भारत-भूमि को धन्य धन्य कहते हुए देवगण इसका शौर्य-गान गाते हैं। यहां पर मनुश्य जन्म पाना देवत्व पद प्राप्त करने से भी बढकर है।
 
;एत देश प्रसूतस्य सकाशादग्र जन्मन:जन्मनः । <br>
;स्वं स्वं चरित्र शिक्षेरन् पृथिव्यां सर्व मानवा: ।।
 
बेनामी उपयोगकर्ता

दिक्चालन सूची